सना अली, जिन्होंने ट्यूशन पढ़कर अपनी फीस जमा की, आज ISRO में चयनित हुईं। सीएम शिवराज ने उन्हें बधाई दी।

सना अली, जिन्होंने ISRO में टेक्निकल असिस्टेंट के पद पर चयनित होने का सौभाग्य पाया, सफलता के मूल मंत्र के रूप में यह कहा कि सफलता को प्राप्त करने के लिए नियमित अध्ययन और लक्ष्य को पाने के लिए सतत प्रयास करना बेहद महत्वपूर्ण है।

सना अली, जो Madhya Pradesh के Vidisha में रहती हैं, ने यह सिद्ध किया कि जहां इच्छा होती है, वहां एक राह खुद बदल जाती है। अपनी आर्थिक संकटों के बावजूद, उन्होंने अपने शिक्षा का खर्च निकालने के लिए मेहनत की। अब Sana Ali ISRO में एक Technical Assistant के रूप में शामिल होने के क़रीब हैं। Madhya Pradesh के मुख्यमंत्री Shivraj Singh Chauhan ने Sana Ali और उनके परिवार को बधाई दी हैं।

साजिद अली का परिवार एक जर्जर मकान में विदिशा के निकासा मोहल्ला इलाके में बसा हुआ है, और वे पेशे से एक ड्राइवर हैं। उनकी बेटी सना अली पढ़ाई में हमेशा होशियार थी, और उन्हें अंतरिक्ष के रहस्यों में बेहद रुचि थी। इसी के कारण, उन्होंने ISRO (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन) में काम करने का सपना देखा और इसे पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की।

चयन सतीश धवन स्पेस सेंटर में सना अली का हुआ चयन

सना का इसरो में जाने का सपना कई वजहों से आसान नहीं था. सबसे बड़ी रुकावट उनके लिए आर्थिक तंगी की थी, लेकिन माता-पिता ने सना की पढ़ाई को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। पिता ने रिश्तेदारों से पैसे उधार लेकर और मां ने अपने कीमती जेवर गिरवी रखकर सना की पढ़ाई पूरी करवाई। सना ने एसएटी कॉलेज से पढ़ाई करने के बाद इंजनियरिंग में पोस्ट ग्रेजुएशन किया। सना अली का चयन सतीश धवन स्पेस सेंटर में टेक्निकल असिस्टेंट के पद पर हुआ है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से सना अली और उनके परिवार को बधाईयां दी हैं।

सना लड़कियों के लिए बनी नजीर

जब सना अली अपनी पढ़ाई कर रही थीं, तो कई लोगों ने उनके परिवार वालों को जल्दी शादी करने की सलाह दी। सना अली का निकाह ग्वालियर के इंजीनियर अकरम खान से हुआ। ससुराल वालों ने भी सना अली की रुचि देखकर उनकी पढ़ाई में कोई बाधा नहीं डाली। इसी के कारण सना अली ने अपने ख्वाब को पूरा किया है। सना अली अब मध्य प्रदेश की उन बेटियों के लिए नजीर बन गई हैं जो आर्थिक तंगी के कारण अपनी पढ़ाई को विराम दे देती हैं।

सना अली का एमपी की छात्राओं को दिया ये पैगाम

सना अली ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता के अलावा ससुराल वालों, शिक्षकों, रिश्तेदारों और टीचरों को दिया है. सना अली ने मध्य प्रदेश की छात्राओं को यह पैगाम दिया है कि यदि वे अपना ख्वाब पूरा करना चाहती हैं, तो पूरी मेहनत और लगन के साथ उन्हें पढ़ाई करना होगी. सना ने यह भी कहा कि मंजिल दूर जरूर नजर आती है लेकिन नियमित अध्ययन और प्रयास से सफलता जरुर मिलती है. उन्होंने खासतौर पर छात्राओं के लिए यह संदेश दिया है कि जीवन में कुछ भी नामुमकिन नहीं है, इसलिए मेहनत में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहिए.

यह भी पढ़ें:

Leave a comment

%d bloggers like this: